माना पेड़ पुराना था

माना पेड़ पुराना था
उसका एक ज़माना था

 

जितने दिन वो हरा रहा
मौसम बड़ा सुहाना था

 

जितनी कटी पतंगें थीं
सबका ठौर-ठिकाना था

 

तितली, परियाँ, चाँद हवा
सबसे ही याराना था