सांझ गहराते ही जल जाते हैं सारे बल्ब ये

सांझ गहराते ही जल जाते हैं सारे बल्ब ये
रात की कजरारी ऑंखों के हैं तारे बल्ब ये

 

रौशनी की इक नदी सी फूटती दीखी हमें
दूर से हमने कभी भी जब निहारे बल्ब ये

 

इनकी फ़ितरत है कि देते हैं सभी को रौशनी
मज़हबों और जातियों को बिन विचारे बल्ब ये

 

घर की दीवारें सजाने के भी काम आ जाएंगे
टूटे-फूटे, फ्यूज़ और क़िस्मत के हारे बल्ब ये