ये ही हिन्दुस्तान है, लगता नहीं

इसकी कुछ पहचान है लगता नहीं
ये ही हिन्दुस्तान है, लगता नहीं

 

कारनामे देखकर इस भीड़ में
एक भी इन्सान है, लगता नहीं

 

लुटती अस्मत देखकर भी चुप हैं ये
शेष स्वाभिमान है लगता नहीं

 

जायसी, रसख़ान जन्मे थे यहाँ
ये ही वो स्थान है, लगता नहीं

 

देख दंभी हौंसले, अब भी ख़ुदा
सर्वशक्तिमान है, लगता नहीं