इसलिए तनहा खड़ा है

इसलिए तनहा खड़ा है
है अभी उसमें अना है

 

बिन बिके जो लिख रहा है
हममें वो सबसे बड़ा है

 

भीड़ से बिल्कुल अलग है
आज भी वो सोचता है

 

ख़ून दौड़े है रग़ों में
जब कभी वो बोलता है

 

कल उसी पर शोध होंगे
आज जो अज्ञात-सा है